जब सबसे ज्यादा प्रदुषण गाड़ियों से होता है तो लोग पटाखों के पीछे ही क्यों पड़े है : सुप्रीम कोर्ट

आज सुप्रीम कोर्ट ने एक ऐसी टिपण्णी की है जिस से कई सारे सेकुलरों और वामपंथी कार्यकर्ताओं की नींद उड़ गयी है

हर साल इस देश में एक चीज होता है, दिवाली के समय कई सारे लोग पटाखों के खिलाफ याचिका लेकर सुप्रीम कोर्ट पहुँच जाते है और प्रदुषण की बात करते है




कई बार कोर्ट पटाखों को लेकर कई सारे आदेश भी जारी करती है, हमेशा दिवाली के आसपास ये सब काम पिछले कई सालों से भारत में होता ही आया है

पर आज सुप्रीम कोर्ट ने कुछ अलग ही टिपण्णी की है
loading...


प्रदुषण के मामले पर आज एक केस में सुनवाई करते हुए कोर्ट ने कहा की – जब गाड़ियों से सबसे ज्यादा प्रदुषण फैलता है तो कई सारे लोग पटाखों के पीछे ही क्यों पड़े हुए है


सुप्रीम कोर्ट ने आज केंद्र सरकार को कहा है की – केंद्र पटाखों और गाड़ियों से होने वाले प्रदुषण पर एक स्टडी करे और उसकी रिपोर्ट कोर्ट को सौंपे




कोर्ट ने साथ ही ये भी टिपण्णी की है की – जब गाड़ियों से ज्यादा प्रदुषण फैलाता है तो भी कई सारे लोग पटाखों के ही पीछे क्यों पड़े हुए है, जबकि उनसे भी ज्यादा प्रदुषण तो कई अन्य कारणों से फैलाता है और सबसे ज्यादा तो गाड़ियों से

कोर्ट की आज की टिपण्णी कई लोगो को हैरान कर रही है क्यूंकि ये वही कोर्ट है जिसने पिछले 2 दिवाली के आसपास पटाखों को लेकर अलग अलग तरह के फैसले सुनाये थे, पर अब कोर्ट लगता है जाग चूका है और केंद्र से रिपोर्ट भी मंगवा ली है

Post a Comment

0 Comments