बनने चली थी सांसद, चुनाव आयोग के सामने 10 लोग भी नहीं ला सकी, चुनाव से पहले ही डिसक्वालीफाई हुई AAP उम्मीदवार

कहा जा सकता है की चुनाव होने से पहले ही आम आदमी पार्टी के 1 लोकसभा चुनाव 2019 उम्मीदवार की जमानत जप्त हो गयी

अरविन्द केजरीवाल ने उत्तर प्रदेश में भी आम आदमी पार्टी के कई उम्मीदवार अब उतार दिए है, और गौतम बुद्ध नगर सीट पर केजरीवाल ने श्वेता शर्मा नाम की AAP नेता को उम्मीदवार बनाया था




इलेक्शन कमीशन ने आम आदमी पार्टी को राष्ट्रिय पार्टी का दर्जा नहीं दिया है, इसी कारण श्वेता शर्मा को चुनाव आयोग के सामने अपनी उम्मीदवारी भरते हुए 10 लोगो को लेकर आना था

चुनाव आयोग का ये नियम है की अगर कोई राष्ट्रीय राजनितिक दल नहीं है, या इंडिपेंडेंट है तो ऐसे शख्स को चुनाव आयोग के सामने अपनी उम्मीदवारी के समर्थन में कम से कम 10 लोगो को लेकर आना होगा
loading...


10 लोग उम्मीदवारी का समर्थन करेंगे तो चुनाव आयोग उसकी उम्मीदवारी को स्वीकार करेगा

चूँकि AAP राष्ट्रीय पार्टी नहीं है इसी कारण श्वेता शर्मा को भी चुनाव आयोग के सामने 10 लोगो को हाजिर करना था जो उनकी उम्मीदवारी का समर्थन करते




पर श्वेता शर्मा 10 लोग भी अपने साथ लेकर नहीं आ सकी, जबकि चुनाव आयोग ने इसके लिए श्वेता शर्मा को टाइम भी दिया की आप 10 लोग तो लेकर आ जाओ


चुनाव आयोग के टाइम देने के बाद भी आम आदमी पार्टी की उम्मीदवार श्वेता शर्मा 10 लोग भी नहीं ला सकी जो चुनाव आयोग के सामने उनकी उम्मीदवारी का समर्थन करते
loading...


और इसी कारण चुनाव आयोग ने नियम के अनुसार श्वेता शर्मा की उम्मीदवारी को स्वीकार नहीं किया और उनको डिसक्वालीफाई कर दिया गया, आम आदमी पार्टी की ये नेता सांसद बनने चली थी, पर 10 लोग भी जमा नहीं कर सकी, इस तरह केजरीवाल की एक उम्मीदवार की उम्मीदवारी चुनाव से पहले ही समाप्त हो गयी

Post a Comment

0 Comments