लखनऊ में कुछ थप्पड़, पूरी दुनिया में चर्चा, जम्मू में यासिर ने ग्रेनेड से 1 को मार दिया, 30 को घायल कर दिया, हर तरफ सन्नाटा

हमारे देश में जनता के विचारों को मीडिया के लोग बैठकर बनाते है, एजेंडा चलाते है और जनता उनके विचारों को ही अपनाकर अपने विचार बना लेती है

इसी को सेकुलरिज्म भी कहते है जो की भारत में दशको से चल रहा है और भारत के हर शहर में वास्तविक मिनी पाकिस्तान भी बना चूका है, पुलवामा हमले के बाद भारत के अन्दर गद्दारों की पूरी फ़ौज ऐसे ही दिखाई नहीं दी थी, जब सैनिको के बलिदान पर जश्न मनाया जा रहा था




पिछले दिनों 2 घटनाएं हुई, पहली लखनऊ में जहाँ पर 2-4 लोगो ने भगवा रंग के वस्त्र पहन कर कुछ कश्मीरियों को थप्पड़ मार दिए, आज भी इसे लेकर मीडिया में डिबेट चल रही है, प्राइम टाइम शो चलाये गए

इस घटना को पूरी दुनिया में हाईलाइट किया गया, हिन्दू आतंकवाद तक को घोषित कर दिया गया, कुछ थप्पड़ के बाद इतना हंगामा हुआ
loading...


दूसरी तरफ 7 मार्च 2019 को इसी देश के जम्मू में यासिर अरमान नाम के शख्स ने जम्मू के बस स्टैंड पर हमला कर दिया, ये हमला थप्पड़ो या डंडो से नहीं बल्कि ग्रेनेड से किया गया

विस्फोटक से हमला कर यासिर ने 1 को मार डाला और 30 घायल है, और उनमे से कुछ और भी मर जाये तो कोई बड़ी बात नहीं होगी, घायलों की स्तिथि काफी नाजुक भी है


पर इस घटना पर किसी को डिबेट नहीं चलाना, किसी भी न्यूज़ चैनल के प्राइम टाइम में यासिर अरमान पर कोई चर्चा नहीं हुई, ये इतनी छोटी सी घटना बना कर रख दी गई की इसपर चर्चा की जरुरत ही क्या




कुछ थप्पड़ मतलब बहुत बड़ी घटना और पुरे देश में चर्चा, सभी एक सुर में आलोचना करने निकल पड़ते है, जबकि दूसरी तरफ ग्रेनेड से हमला, 1 को मारा, 30 अस्पताल में, पर हर तरफ सन्नाटा, न कोई चर्चा और न ही कोई आलोचना, ये ही है मीडिया का प्रोपगंडा जो की देश की जनता को गुमराह करती है और एजेंडा चलाती है

Post a Comment

0 Comments