दुश्मन के परमाणु हथियारों को नियंत्रित करने वाले उपग्रहों को मार सकते है अब हम, चीन की हवा टाइट

आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वयं सामने आकर देश को बहुत बड़ी खुशखबरी दी, देश के ग्रेट वैज्ञानिको ने एंटी उपग्रह मिसाइल सिस्टम का सफल परिक्षण किया

300 किलोमटर की ऊंचाई पर हमने 1 उपग्रह को आज टेस्ट करके ढेर कर दिया और इसी के साथ भारत दुनिया का चौथा देश बन गया जो अंतरिक्ष में उपग्रह को ढेर कर सकता है




अमेरिका, रूस और चीन के पास ही ये शक्ति थी पर अब भारत दुनिया का चौथा ताकतवर देश हो गया जो अंतरिक्ष में उपग्रह को ढेर कर सकता है

भारत ने इसी के साथ चीन पर एक बहुत बड़ी मानसिक लीड भी ले ली

असल में एंटी उपग्रह मिसाइल सिस्टम परमाणु हथियारों को बिलकुल निष्क्रिय कर सकता है, परमाणु हथियार किसी भी काम के नहीं रहेंगे
loading...


परमाणु हथियारों को उपग्रह के जरिये ही टारगेट पर ले जाया जाता है, मिसाइल के जरिये हो या पनडुब्बी के जरिये, परमाणु हथियारों को एक देश उपग्रह से ही कण्ट्रोल करता है

उदाहरण के तौर पर चीन के तमाम परमाणु हथियार उसके उपग्रह से ही कण्ट्रोल होते है, और भारत के पास अब एंटी उपग्रह मिसाइल सिस्टम है, ये सिस्टम किसी भी देश के परमाणु हथियारों को किसी भी काम के लायक नहीं रहने देगा


भारत के एंटी उपग्रह मिसाइल सिस्टम से लैस बनने से सबसे ज्यादा समस्या चीन को ही होगी क्यूंकि चीन ही हमारा ऐसा सबसे बड़ा दुश्मन है जो अपने परमाणु हथियर उपग्रह से कण्ट्रोल करता है




इसके साथ ही पाकिस्तान भी अब परमाणु बम की धमकी शायद ही देगा, अब हमारे पास वो शक्ति है की हम चीन के उपग्रहों को ढेर कर सकते है, ऐसे में उसके परमाणु हथियारों को कण्ट्रोल करने वाला उपग्रह ही नहीं होगा तो उसके परमाणु हथियार पड़े पड़े सड़ते ही रहेंगे, भारत एक महाशक्ति बन चूका है, और चीन की अकड़ अब काफी कम हो जाएगी

Post a Comment

0 Comments