"उजालों का पैग़ाम" ( स्याह अँधेरों के नाम...) :- डॉ प्रियंका "हम है ना"

💐🇮🇳💐जय भारत💐🇮🇳💐🙏🙏🙏साथियों🙏🙏🙏💐🇮🇳💐

""ब्रम्हाण्ड है अपना परिवार...
मानवीय गुण रहे...
ना रहे कोई विकार...
"सम्पूर्ण राष्ट्र" करे;...
"भारत" का नमन स्वीकार...।।""

"सम्पूर्ण राष्ट्रों" को...अंतःकरण की असीम गहराईयों से..."भारत" नमन करता है...।
    💐🙏🇮🇳🌏🇮🇳🙏💐

        "उजालों का पैग़ाम"
  ( स्याह अँधेरों के नाम...)



----------------------------------------

अँधेरे की कोई औक़ात नहीं होती है...
उजाले से ख़त्म हर स्याह रात होती है...
ये ज़िन्दगी है...यहाँ;...
ज़िन्दगी की बात होती है...।।


अँधेरे की कोई औक़ात नहीं होती है...
उजाले से ख़त्म हर स्याह रात होती है...।।

loading...

बदसलूकियत-बेहयायापन...
सभी को छोड़ना होगा...
ये ज़िन्दगी है...यहाँ...
बन्दगी की बात होती है...।।


अँधेरे की कोई औक़ात नहीं होती है...
उजाले से ख़त्म हर स्याह रात होती है...।।


खौफ़...ना...खा...
ओ..मासूम परिन्दे !  जीवन में...
ये ज़िन्दगी है...यहाँ...
तेरे हौसलों की बात होती है...।।


अँधेरे की कोई औक़ात नहीं होती है...
उजाले से ख़त्म हर स्याह रात होती है...।।


loading...
नासाज़ कर देगें...
दरिन्दों की तबियत हम...
ये ज़िन्दगी है...यहाँ...
दरिन्दगी के ख़ात्मे की बात होती है...।।


अँधेरे की कोई औक़ात नहीं होती है...
उजाले से ख़त्म हर स्याह रात होती है...।।


तू...डगमगाना...ना...
तेरे साथ तेरा आत्मविश्वास खड़ा है...
ये ज़िन्दगी है...यहाँ...
आत्मविश्वास जगानें की बात होती है...।।


अँधेरे की कोई औक़ात नहीं होती है...
उजाले से ख़त्म हर स्याह रात होती है...।।


तू...घबराना...ना...
चीर के निकल तू अँधेरे को...
अँधेरे के उस पार...
बाहें फैलाये ज़िन्दगी खड़ी होती है...।।



अँधेरे की कोई औक़ात नहीं होती है...
उजाले से ख़त्म हर स्याह रात होती है...।।


स्याह घनेरे - अँधेरे के पश्चात...
नये जीवन की शुरुआत होती है...
नये जीवन की शुरुआत होती है...
नये जीवन की शुरुआत होती है...



""प्रस्फुटित उजालों संग...
आ..हमसब...
"नन्हा-दीप" बन जायें...
मानवता को...
जगमग-जगमग कर जायें...।।""

""अँधेरों से हताश न होना...
अँधेरों को करो सलाम...
क्योंकि;अँधेरे ही करते हैं...           
जीवन को रफ़्तार देनें का काम...।।""


""अँधेरों को...उजालों का पैग़ाम देनें...""


आ...अब...सभी मिलकर चलें...विश्वपटल की ओर...
🇮🇳🌏🇮🇳🌏🇮🇳🌏🇮🇳🌏🇮🇳
      आपके परिवार की
       अपनीं बेटी-
        डॉ. प्रियंका"हम हैं ना"
              9450182942
         सक्रिय समूह भारत
        🌈जागृत भारत🌈

Post a Comment

0 Comments